विष्णुदेव साय बने छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री ..

Google News
....

रायपुर । आदिवासी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री विष्णु देव साय छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री के रूप में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पसंद हैं। बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह सरुता ने कहा, ”मुझे बहुत खुशी है कि विष्णु देव साय छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री होंगे. यह पहली बार है कि किसान परिवार से आने वाले आदिवासी समुदाय के किसी पार्टी कार्यकर्ता को सीएम के रूप में चुना गया है.’

साय ने हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में उत्तरी छत्तीसगढ़ के कुनकुरी से जीत हासिल की, जहां भाजपा ने जीत हासिल की है। साय भाजपा में एक प्रमुख व्यक्ति हैं और उन्होंने पूर्व राज्य प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री सहित विभिन्न पदों पर कार्य किया है।

जिनकी दुर्ग, रायपुर और बिलासपुर संभाग में बड़ी उपस्थिति है। उन्होंने 2020 से 2022 तक छत्तीसगढ़ के लिए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। वह पहले पीएम मोदी कैबिनेट में केंद्रीय खान, इस्पात राज्य मंत्री थे।

आदिवासी मतदाताओं के बीच उनका काफी सम्मान है…

इससे पहले बीजेपी के केंद्रीय पर्यवेक्षक सर्बानंद सोनोवाल और अर्जुन मुंडा ने रायपुर में बैठक की. राज्य में मतदान दो चरणों में हुआ था, पहले चरण में 7 नवंबर को 223 उम्मीदवार शामिल हुए थे और दूसरे चरण में 17 नवंबर को 958 उम्मीदवारों ने अपने चुनावी भाग्य का परीक्षण किया था। छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में से भाजपा को 54 और कांग्रेस को 35 सीटें मिलीं।

विष्णुदेव साय के बारे में व उनके परिवार के लोगों की जानकारी ..

विष्णुदेव साय के प्रथम पुत्री निवृति साय के शादी जिला धमतरी फसरपानी में हुई है । वही दूसरी पुत्री स्मृति साय पीएससी का तैयारी रायपुर में कर रहे है । वही एकलौता पुत्र टोसेन्द्र देव साय फिलहाल रायपुर में कॉलेज की पढ़ाई कर रहे है ।

विष्णुदेव साय के शिक्षा की बात करें तो…

उनका प्रारंभिक शिक्षा गांव के बगिया प्राथमिक स्कूल से हुई और आगे की पढ़ाई छठवीं से 11 वीं तक कुनकुरी के लोयोला हायर सेकेंडरी स्कूल में 1981 तक पढ़ाई की। इसके बाद चार भाइयो में सबसे बड़े विष्णुदेव पारिवारिक कारणों से आगे की पढ़ाई छोड़ दी और घर मे पिताजी के साथ खेती किसानी करने लगे। उस समय गांव में पढ़े लिखे होने कारण 1989 में वार्ड पंच बने फिर 1991 में बगिया पंचायत के निर्विरोध सरपँच निर्वाचित हुए. सरपँच बनते ही इन्हें तपकरा विधानसभा सीट से 1991 से 1998 तक भाजपा प्रत्याशी बनाया गया और पहली बार 26 साल की उम्र में तत्कालीन मध्यप्रदेश की विधानसभा में विधायक बनकर विधानसभा का सफर तय किए ।

भाजपा विधायक दल की बैठक में इनके नाम का ऐलान किया गया जहां विष्णुदेव साय प्रदेश के चौथे मुख्यमंत्री होंगे।

660

About Post Author

error: Content is protected !!