सूरजपुर में मिला दुर्लभ प्रजाति का कोमोडो ड्रैगन ,किसान को दिखी विशालकाय छिपकिली…!!

{"remix_data":[],"remix_entry_point":"challenges","source_tags":["local"],"origin":"unknown","total_draw_time":0,"total_draw_actions":0,"layers_used":0,"brushes_used":0,"photos_added":0,"total_editor_actions":{},"tools_used":{"border":1,"transform":1,"addons":1},"is_sticker":false,"edited_since_last_sticker_save":true,"containsFTESticker":false}

SURAJPUR

सूरजपुर जिले का रामनगर ग्राम पंचायत, कुमदा बस्ती में 13 मई को दुर्लभ कोमोडो ड्रैगन प्रजातिकी बड़ी छिपकली मिलने से लोगों के लिए चर्चा का विषय बन गया था देखते ही देखते यह बात पूरे गांव मैं फैल गई वहीं एक किसान ने इसे बोरी की सहायता से पकड़ पिंजरा में रखते हुए वन विभाग को सौंप दिया है।

जहां बताया जा है कि:-

कोमोडोड्रैगन की लंबाई करीब चार फीट की है। वन विभाग के विशेषज्ञों केमुताबिक यह कोमोडो ड्रैगन अभी काफी कम आयु का है। इसप्रजाति के छिपकली काफी बड़े आकार के होते हैं, जो वन्य प्राणीहिरन जैसे जानवर को भी निगल लेने की छमता रखते हैं।

कुमदा बस्ती निवासी रामेस्वर सारथी सोमवार को दोपहर बाड़ी में काम कर रहा था, तभी अचानक उसकी नज़र कामोड़ो ड्रेगनके बच्चे पर पड़ी। जिसे देख पहले तो वह घबरा गया उसके बाद हिम्मत जुटा कर बोरी के सहारे उसको पकड़ लिया , तभी गांव के जागरूक युवकों ने जब उसकी फोटो खींच गुगल पर सर्च किया तो उस जीवकी पहचान कोमोडो ड्रैगन के रूप में हुई।

जैसे ही कोमोडो ड्रैगन नाम की बात सामने निकल कर आई तो उसे देखने के लिए युवक के घर में लोगों का तांता लग गया। विलुप्त प्रजातिकी छिपकली मिलने का जानकारी ग्राम पंचायत कुंदा के सरपंच ने वन विभाग को दी।

हालांकि विशेषज्ञों का यह भी कहना है :- कि कोमोडो ड्रैगन प्रजाति के बड़ी छिपकली भारत में नही मिलते,जिससे इसे इंडियन लिजार्ड, मॉनिटर लिजार्ड अथवा गोहरा प्रजातिके होने का भी अनुमान लगाया जा रहा है।

172

About Post Author

error: Content is protected !!